My new app AfsaneDB (Beta) is now in PlayStore!

Those who love reading classic literature can now enjoy literary masterpieces in this beautifully designed app.

Friday, 19 November 2021

Hirday Men Ik Jot Jali Hai - Ghazal by Shakeeb Ahmad


 Read in Urdu (Perso-Arabic) script here.


English

Apna man dukhiyaara kaisa, apana haal to aisa hai

Hirday mein ik jot jali hai jisne tan-man phoonka hai 

Prem nagar mein ik din mein aa nikala tha bhoola bhatka 

Khud ko bhool chuka hoon tab se, jag bhi saara bhoola hai 

Kitnee kaThin hai prem pareeksha, prem hua to kis se hua 

Apne aap ko sabse chhupa ke jisne chain ko loota hai 

Is sansaar mein sab hai tumhaara laikin preet ke taapu par 

Tum ke viyog mein jo dukh bhoge us ka maza to mera hai 

Sufi mulla sant pujaari vird vazeefe sab kuchh hech 

Preetam ke jalve ke aage yaaro sab kuchh pheeka hai 

Main bhee maala pher raha tha us ik naam kee barson se 

Ashkon kee maala pe japa tab naam vo dil mein utra hai 

Man to bahut hai naat likhoonga pyaar se us ko gaaunga 

Lekin tumne mujh kambakht ko is qaabil kab samjha hai 

Poochh raha hoon basti-basti aankhon mein ummeed lie 

Ek Shakeeb Ahmad hota tha tumne us ko dekha hai


Hindi

अपना मन दुखियारा कैसा, अपना हाल तो ऐसा है

हृदय में इक जोत जली है जिसने तन-मन फूँका है

प्रेम नगर में इक दिन में आ निकला था भूला भटका

ख़ुद को भूल चुका हूँ तब से, जग भी सारा भूला है

कितनी कठिन है प्रेम परीक्षा, प्रेम हुआ तो किस से हुआ

अपने आपको सबसे छुपा के जिसने चैन को लूटा है

इस संसार में सब है तुम्हारा लैकिन प्रीत के टापू पर

तुम के वियोग में जो दुख भोगे उस का मज़ा तो मेरा है

सूफ़ी मुल्ला संत पुजारी विर्द वज़ीफ़े सब कुछ हेच

प्रीतम के जल्वे के आगे यारो सब कुछ फीका है

मैं भी माला फेर रहा था उस इक नाम की बरसों से

अश्कों की माला पे जपा तब नाम वो दिल में उतरा है

मन तो बहुत है नात लिखूँगा प्यार से उस को गाऊँगा

लेकिन तुमने मुझ कम्बख़्त को इस क़ाबिल कब समझा है

पूछ रहा हूँ बस्ती-बस्ती आँखों में उम्मीद लिए

एक शकीब अहमद होता था तुमने उस को देखा है


Meanings

Hirday (हृदय): दिल  | heart
Prem Pariksha (प्रेम परीक्षा): मुहब्बत का इम्तेहान | test of love
Sansaar (संसार): दुनिया | world
Preet (प्रीत): मुहब्बत, प्यार | love
Taapu (टापू): जज़ीरा  | island
Viyog (वियोग): जुदाई, फ़िराक, हिज्र | separation from beloved
Dukh Bhogna (दुख भोगना): ग़म काटना, तकलीफ उठाना | to labor, to suffer
Preetam (प्रीतम): मेहबूब | beloved
Shakeeb Ahmad Maharashtra, India

Shakeeb Ahmad is a blogger, poet, enthusiast programmer, student of comparative religion and psychology, public speaker, singer and Vedic Maths expert. He loves playing with the numbers and invented a shortcut method to square the numbers at the age of 16. In sports, football is root to his happiness. He lives it.

No comments:

Post a Comment